अगर क्रोध आने लगे, चिढ़ चिढ़ होने लगे और सिर में तनाव जैसा महसूस हो तो – वातावरण को परखें, मित्रों से मिलें और सकारात्मक बातचीत करें । स्वयं पर नियंत्रण रखें और समझने का प्रयास करें कि – जैसा आप महसूस कर रहें – कहीं दूसरे भी तो इसी प्रभाव में नही हैं ?
हाँ – हैं, क्योंकि –
चार बड़े ग्रह राशि बदल रहे हैं । गुरु-बृहस्पति, शनि और राहु-केतु धीरे-धीरे राशि बदलने में लगे है । गुरु-बृहस्पति और राहु-केतु ने राशि बदल ली है और शनि राशि बदलने वाला है । ये चार बड़े ग्रह हैं – जो लम्बे समय तक एक राशि मे संचार करते हैं और हमारे जीवन पर प्रभाव डालते हैं । जब ये चारों एक साथ राशि बदलते हैं – तो ये एक बड़े बदलाव का संकेत करते हैं । बदलाव सदा ही कठीन और जटील होता है । इससे – हम ये कह सकते हैं कि – हम एक बदलाव से गुजर रहे हैं, एक कठीन समय से गुजर रहे हैं अथवा एक जटील समय से गुजर रहे हैं ।
बदलाव – के इस दौर में खुद पर नियंत्रण रखना आवश्यक है । नकारात्मक विचार मस्तिष्क में जल्दी घर कर जाते हैं । वाद-विवाद और मतभेद की विचारधारा पनपने लगती है । हर किसी को संदेह से देखना और हर किसी के शब्दों को तौलना और परखना आवश्यक लगने लगा है ।
मुख्य-रूप से शनि की निर्बलता – इसका कारण है । जिसे सबल होने में अभी एक माह और लग जाना है ।
आसपास का वातावरण भी निराशाजनक लगता है और किसी शुभ और लाभदायक सूचना की सभी को प्रतीक्षा है । कुछ हाज़मा भी शिथिल सा लगता है और कुछ बे-चैनी सी होती है । लेकिन – घबराने की जरूरत नही है – ये सब अस्थाई है ।
नवंबर से इसमें सुधार होना आरम्भ होगा और फरवरी आते-आते बहुत कुछ ठीक हो जायेगा । तब तक धैर्य रखना होगा और नकारात्मक विचारों से दूर रहना होगा ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.